Welcome Guest, Login | Register
Home | Medical | City Info | Image Gallery | Babies Name | Utilities | Poetry | Recipe | Joke/SMS | Articles | Hostel | Trade Events| MPDarshan
 
:: Poem Categories ::
Animals (1)
Birds (2)
Environment (4)
Festivals (1)
Flowers (2)
Friends (5)
Kids (5)
Life (39)
Love (65)
Nature (8)
Others (22)
Parents (1)
Patriotic (9)

:: Environment ::
 
उन्होंने एक बात कही, खोपड़ी चकराए बिना नहीं रही..
उन्होंने एक बात कही,
खोपड़ी
चकराए बिना नहीं रही।
माथा ठनका,
क्योंकि
वक्तव्य था उनका
सुन लो
इस चंबल के बीहड़ों की
बेटी से
राजा
पहले पैदा होता था
रानी के पेट से
अब पैदा होता है
मतपेटी से।

बात चुस्त है,
सुन..   Read
posted by Raghvendra SinghVerma @ 6:01PM on date 05-04-2013
Views (686)
0 comments
कहता हूँ मैं..!

कहता हूँ मैं जीवन से
रहता क्यों सपने सजाकर,
सपनो से हमने सब कुछ लिया
जीवन ने कहा सीना तानकर |
कहता हूँ फूलों से
व्यर्थ में खुशबू सबको देता,
आनंद इसी में मुझको मिला
गर्व से झटपट उत्तर देता |
कहता हूँ मैं मांझी..   Read
posted by Bang prasad vaidya @ 7:56AM on date 25-05-2011
Views (929)
2 comments
हिंदी - हमारी राष्ट्र भाषा
हिंदी हमारे हिंदुस्तान में ही नहीं विश्व में प्रसिद्ध है. यह भाषा विश्व में तीसरी सबसे जादा बोली जाने वाली भाषा है. यह भाषा करीब ५०० मिलियन लोगों के द्वारा बोली जाती है. हमारा भारत देश एक ऐसा देश है जहाँ अनेक प्रकार, बिभ..   Read
posted by Ashish Chaudha @ 10:32AM on date 17-02-2011
Views (882)
2 comments
पर्यावरण
पेड़ पौधे वृक्ष लगाओ,
मानव जीवन को बचाओ,
प्रदुषण से ये हमें बचाते,
स्वच्छ वायु हमें है देते,
भूमि कटाव को ये रोकते,
बारिश भी ये करवाते,
सुरक्षित जीवन तुम बनाओ,
पेड़ पौधे वृक्ष लगाओ,
मानव जीवन को बचाओ |..   Read
posted by NISHA DAS @ 12:26AM on date 09-02-2011
Views (1703)
2 comments
:: Most Popular ::
 
पर्यावरण
पेड़ पौधे वृक्ष लगाओ,
मानव जीवन को बचाओ,
प्रदुषण से ये हमें बचाते,
स्वच्छ वायु..   Read
Views (1703)
2 comments
posted by NISHA DAS on date 09-02-2011
कहता हूँ मैं..!

कहता हूँ मैं जीवन से
रहता क्यों सपने सजाकर,
सपनो से हमने सब कुछ लिया
जीवन न..   Read
Views (929)
2 comments
posted by Bang prasad vaidya on date 25-05-2011
हिंदी - हमारी राष्ट्र भाषा
हिंदी हमारे हिंदुस्तान में ही नहीं विश्व में प्रसिद्ध है. यह भाषा विश्व में तीसर..   Read
Views (882)
2 comments
posted by Ashish Chaudha on date 17-02-2011
उन्होंने एक बात कही, खोपड़ी चकराए बिना नहीं रही..
उन्होंने एक बात कही,
खोपड़ी
चकराए बिना नहीं रही।
माथा ठनका,
क्योंकि
वक्तव्य..   Read
Views (686)
0 comments
posted by Raghvendra SinghVerma on date 05-04-2013
Valid XHTML 1.0 Transitional   Valid CSS!
esagar.com © 2009-2011 All rights reserved | Powered by Das Consultancy Services