Welcome Guest, Login | Register
Home | Medical | City Info | Image Gallery | Babies Name | Utilities | Poetry | Recipe | Joke/SMS | Articles | Hostel | Trade Events| MPDarshan
 
:: Poem Categories ::
Animals (1)
Birds (2)
Environment (4)
Festivals (1)
Flowers (2)
Friends (5)
Kids (5)
Life (39)
Love (65)
Nature (8)
Others (22)
Parents (1)
Patriotic (9)

:: Nature ::
 
दरख्तों से

दरख्तों से परिंदे कब उडा करतें है ं
इंसानियत के खिलाफ हंगामें जब हुआ करतें है ं
भडक गए जो शोले राहे इश्क में फिर
अतीत हैं गवाह यह बता कब बुझा करतें है
कुछ भी कर ले इश्क के परवाने कब रुकें है
शमा की चाह में वो ..   Read
posted by MILAN AJMERI @ 1:32AM on date 19-01-2015
Views (244)
0 comments
जीना है जिंदगी को तो.......यह समझ कर जीएं
अगर जीना है जिंदगी को तो.......यह समझ कर जीएं

जिन्दगी हर मोड पर एक नया तोहफा लिए खडी है
जिन्दगी एक पेड की तरह है जो कभी धूप कभी छांव
जैसे कभी गम कभी खुशी देता है ।
जिन्दगी एक माया है जो रिझाती है ललचाती है
ले..   Read
posted by MILAN AJMERI @ 2:50PM on date 11-11-2014
Views (283)
1 comments
मदमाती बासंती बेला है आयी
मदमाती बासंती बेला है आयी
कण-कण में यौवन की चाह है लायी

तिनका-तिनका बन गया नवांकुर है
मौसम जो आया इतना मधुर है
समाधि त्याग चंचल हो दौड़े चले आये भोले महेष
धरती की हरीतिमा में दमक उठे उनके गणवेष

लता अपने प्रियतम..   Read
posted by SUMIT RAI @ 11:54PM on date 13-06-2013
Views (603)
1 comments
FLIGHT WITH KITE


Can move like a Kite, make yourself so lite,
In love with the air, to dangles here and there.
Drives us so long , slashes hard but fare,
Control is not in our hand , Never know But he's there.

To resist in stro..   Read
posted by NAGEEN JAIN @ 5:15PM on date 21-05-2012
Views (708)
0 comments
What happened Without ....
Nature is life
Life is Nature
Sometime I think What is Nature
Sometime I think Nature is Life
When I depress thattime I see nature parts :- flower etc.
Thattime I relise what is Nature ..   Read
posted by NIMBU @ 4:03PM on date 28-01-2012
Views (585)
0 comments
शायद
कल कल करती ये लहरें कुछ कहना चाहती है शायद
सुनो धयान से ये गीत गुनगुना रही है शायद
कभी शांत कभी लड़ने लगती है ये,
किनारे पे किसी से मिलने को शायद
हवा के साथ होती रहती है इधर उधर
कब पहुचेगी मंजिल पर सोचती है शायद..   Read
posted by PRIYAM @ 10:45PM on date 23-06-2011
Views (1751)
2 comments
Chimpanzi
Dekha tujhe to rooh khush ho gayi,
Ek kami thi vo bhi puri ho gayi,
Pagal hain vo log jo kehte hain ki,
Chimpanzi ki aakhri nasal kahin kho gayi!!..   Read
posted by Raghvendra SinghVerma @ 8:39PM on date 28-02-2011
Views (649)
0 comments
---- इतने बड़ी धरती हमारी ----
इतनी बड़ी धरती हमारी
और छोटे से हम

मानव, मींन, पशु, और पतंगे
लाखो जीवों का यह घर;
धरती पर, धरती के नीचे,
कुछ रहते धरती की उपर,
सब मे जीवन, सब है बराबर,
नही है कोई कम|
इतने बड़ी धरती हमारी
और छोटे से हम|

रंग-..   Read
posted by NISHA DAS @ 6:18PM on date 14-02-2011
Views (1075)
1 comments
:: Most Popular ::
 
शायद
कल कल करती ये लहरें कुछ कहना चाहती है शायद
सुनो धयान से ये गीत गुनगुना रही है श..   Read
Views (1751)
2 comments
posted by PRIYAM on date 23-06-2011
---- इतने बड़ी धरती हमारी ----
इतनी बड़ी धरती हमारी
और छोटे से हम

मानव, मींन, पशु, और पतंगे
लाखो जीवों का ..   Read
Views (1075)
1 comments
posted by NISHA DAS on date 14-02-2011
FLIGHT WITH KITE


Can move like a Kite, make yourself so lite,
In love with the air, to dangl..   Read
Views (708)
0 comments
posted by NAGEEN JAIN on date 21-05-2012
Chimpanzi
Dekha tujhe to rooh khush ho gayi,
Ek kami thi vo bhi puri ho gayi,
Pagal hain..   Read
Views (649)
0 comments
posted by Raghvendra SinghVerma on date 28-02-2011
मदमाती बासंती बेला है आयी
मदमाती बासंती बेला है आयी
कण-कण में यौवन की चाह है लायी

तिनका-तिनका बन गया न..   Read
Views (603)
1 comments
posted by SUMIT RAI on date 13-06-2013
What happened Without ....
Nature is life
Life is Nature
Sometime I think What is Nature
Sometime I thin..   Read
Views (585)
0 comments
posted by NIMBU on date 28-01-2012
जीना है जिंदगी को तो.......यह समझ कर जीएं
अगर जीना है जिंदगी को तो.......यह समझ कर जीएं

जिन्दगी हर मोड पर एक नया तोहफा..   Read
Views (283)
1 comments
posted by MILAN AJMERI on date 11-11-2014
दरख्तों से

दरख्तों से परिंदे कब उडा करतें है ं
इंसानियत के खिलाफ हंगामें जब हुआ करतें है..   Read
Views (244)
0 comments
posted by MILAN AJMERI on date 19-01-2015
Valid XHTML 1.0 Transitional   Valid CSS!
esagar.com © 2009-2011 All rights reserved | Powered by Das Consultancy Services