Welcome Guest, Login | Register
Home | Medical | City Info | Image Gallery | Babies Name | Utilities | Poetry | Recipe | Joke/SMS | Articles | Hostel | Trade Events| MPDarshan
 
खाना व्यर्थ होने से कैसे बचाएं (Protect food from being wasted)
हमारे देश में लोगों को ताजा खाने की आदत है। विदेशों में फ्रोजन फूड का चलन बढ़ चुका है, लेकिन हमारे देश में अभी तक ताजा सब्जियों व फलों को खरीदने का चलन है। आदत तो अच्छी है, पर इसके साथ कई बुरी आदतों को भी जन्म दे रही है।ताजा खाने के चक्कर में हम ढेरो फल व सब्जी खरीद लाते है और इस वजह से आधी चीजे इस्तेमाल न होने की वजह से खराब हो जाते है। इसलिए योजनाबद्ध तरीके से फल व सब्जियों की खरीदारी जरूरी है। घर लाने के बाद भी सही तरीके से रखकर इन्हें सड़ने और व्यर्थ होने से बचाया जा सकता है। उदाहरण के तौर पर सेब हफ्तों खराब नही होगे, यदि उन्हें ढंग के पोलिथीन बैग में भरकर फ्रिज के सूखे हिस्से में सब्जियों से दूर रखा जाए। साथ ही बड़े सेब पहले खाए और छोटे बाद में। इसी तरह गाजर को भी ताजा बनाए रख सकते है यदि उसे पेपर टॉवल में लपेटकर प्लास्टिक बैग में रखा जाए। पेपर टॉवल गाजरों पर पड़ने वाली नमी सोखने में मददगार होता है।

कभी जरूरत से ज्यादाखाना बन जाता है,तो कभी घर का कोई सदस्य खाना नही खाता,नतीजा अन्न की बर्बादी। इसे रोकने का केवल एक ही उपाय है,'समुचित योजना'। चाहे आप 10 के लिए खाना पकाए या 2 के लिए, रसोई में योजनाबद्ध होगा,तो खाना कभी बर्बाद नही होगा। इसकी शुरुआत अपने फ्रिज से करे। यदि आपका फ्रिज ठीक तरह से जमाया गया होगा, तो खाने की बर्बादी को काफी हद तक रोका जा सकता है। रविवार के दिन बैठकर उन सभी सामानों को बहर निकाले, जिनकी एक्सपायरी डेट नजदीक हो। उन सामानों को अलग कर ले, जिनकी एक्सपायरी डेट निकलने में अभी वक्त है। वे चीजे जिनकी एक्सपायरी डेट जल्द आने वाली है, इन्हें फ्रिज में सामने की ओर रखे। इससे वे नजर आती रहेगी और पहले इस्तेमाल होकर वक्त पर खत्म हो जाएगी। इससे चीजे व्यर्थ में फेकने के बजाय हम उनका सही इस्तेमाल कर पायेगे। ठीक इसी तरह रात के बचे खाने को भी सामने ही रखे, ताकि अगले दिन वह पहले इस्तेमाल हो इन छोटी-छोटी बातो का ध्यान रख कर हम कुछ हद तक शायद खाना व्यर्थ होने से बचा सकते है।
posted by NISHA DAS @ 8:42AM on date 29-09-2014
Views (543)
0 comments
Valid XHTML 1.0 Transitional   Valid CSS!
esagar.com © 2009-2011 All rights reserved | Powered by Das Consultancy Services